जेल के दिनों को याद कर रो पड़ी साध्वी

भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने के बाद भोपाल से लोकसभा का टिकट मिलने के बाद मालेगांव ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर गुरूवार को पहली बार भोपाल में भाजपा कार्यकर्ताओं से रूबरू हुईं राज्य समाचार । जेल में बंद रहने के दौरान खुद पर हुईं ज्यादतियों को बयां करते हुए प्रज्ञा ठाकुर रो पड़ीं। उन्होंने कहा कि जेल में उनसे बिना कुछ पूछे ही उन्हें पीटा गया, गालियां दी गईं और निर्वस्त्र करने की धमकियां दी गईं।  कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रज्ञा ठाकुर ने कहा, जब मुझे लेकर गए तो गैरकानूनी तरीके से 13 दिन तक रखा। पहले ही दिन बिना कुछ पूछे हुए उन्होंने मुझे बुलाया और पीटना शुरू किया, उस चौड़े वाले बेल्ट से पीटा, जिससे मारने के बाद सूज जाता है। एक बेल्ट के बाद आपने अगर दूसरा बेल्ट झेल लिया तो हाथ फट जाएगा। ये जो बेल्ट मारते थे, उससे पूरा नर्वस सिस्टम ढीला पड़ जाता था, सुन्न पड़ जाता था। ये दिन-रात पीटते थे। इतना कहते-कहते प्रज्ञा ठाकुर रो पड़ीं। इसके बाद उन्होंने कहा, मैं आपके सामने अपनी पीड़ा नहीं बता रही हूं लेकिन इतना कह रही हूं कि और कोई बहन आज के बाद कभी भी इस पीड़ा का सामना ना कर सके। मुझे पीटते-पीटते गंदी-गंदी गालियां देते थे और कहते थे कि तुझे निर्वस्त्र करेंगे
स्टेट्स न्यूज़ । 

Advertisements

हिंदी न्यूज़,हिन्दी समाचार,हिंदी में समाचार

Featured

दिल्ली की एक अदालत ने अगस्ता वेस्टलैंड वीवीआईपी हेलीकॉप्टर घोटाला मामले में गिरफ्तार कथित बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल की अंतरिम जमानत याचिका बृहस्पतिवार को खारिज कर दी। मिशेल ने ईस्टर का त्योहार अपने परिवार के साथ मनाने के लिए अदालत से सात दिनों के लिए अंतरिम जमानत का अनुरोध किया था
हिंदी में समाचार

विशेष न्यायाधीश अरविंद कुमार ने मिशेल को राहत देने से इनकार कर दिया।

सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से पेश हुए विशेष सरकारी वकील डीपी सिंह ने मिशेल की याचिका का विरोध करते हुए कहा कि भारत कई त्योहारों का देश है और हजारों कैदी विभिन्न धर्मों में आस्था रखते हैं।

उन्होंने कहा कि इसलिए आरोपी को त्योहार मनाने के लिए जेल से बाहर जाने की इजाजत नहीं दी जा सकती।

सिंह ने कहा कि मिशेल हिरासत में ही ईस्टर मना सकता है।

उन्होंने दलील दी कि यदि मिशेल अंतरिम जमानत पर बाहर आता है और मामले से जुड़े कुछ बयान देता है तो यह जांच को पटरी से उतार सकता है।

वहीं, मिशेल के वकील ने दलील दी कि चूंकि आरोपपत्र दाखिल हो चुका है, इसलिए सबूतों से छेड़छाड़ की कोई आशंका नहीं है।

उन्होंने कहा कि आरोपी मामले में सहयोग कर रहा है और जमानत चाहता है।

आरोपी द्वारा दायर याचिका में कहा गया, ‘‘ ईसाई होने के नाते उसे क्रिसमस के दौरान भी प्रार्थना में जाने की अनुमति नहीं दी गई थी…।’’

मिशेल ने याचिका में कहा, ‘‘ 14से 21अप्रैल तक ईसाइयों का पवित्र सप्ताह है और 21अप्रैल को ईस्टर है, जिसे दुनिया भर में मनाया जाता है। याचिकाकर्ता ईस्टर के दिन पवित्र प्रार्थना में हिस्सा लेना चाहता है और ईस्टर के दिन प्रार्थना करना चाहेगा
हिन्दी समाचार ।’’

ईडी ने मिशेल और अन्य के खिलाफ चार अप्रैल को पूरक आरोपपत्र दाखिल किया था।

दुबई से मिशेल को प्रत्यर्पित किए जाने के बाद ईडी ने 22दिसंबर को उसे गिरफ्तार किया था
हिंदी न्यूज़